गया: जिला पदाधिकारी अभिषेक सिंह के द्वारा आज मोहड़ा प्रखंड एवं अंचल कार्यालय का किया गया निरीक्षण; विभिन्न योजनाओं से जुड़े कार्यों की समीक्षा करते हुए दिये आवश्यक निर्देश

ICN NEWS BIHAR/GAYA(बिष्णु सिन्हा):

गया, 04 मार्च, 2021, जिला पदाधिकारी, श्री अभिषेक सिंह द्वारा आज मोहड़ा प्रखंड एवं अंचल कार्यालय का निरीक्षण किया गया। जिला पदाधिकारी ने प्रखंड के निरीक्षण के क्रम में कैश बुक, शिकायत पंजी, एसी डीसी विपत्र की स्थिति, अंकेक्षण, महत्वपूर्ण पत्रों से संबंधित गार्ड फाइल, पूर्व पदाधिकारी से संबंधित निरीक्षण पंजी, प्रधानमंत्री आवास योजना की समीक्षा, जल जीवन हरियाली अभियान, अंबेडकर छात्रावास की निर्माण, पंचायत सरकार भवन का निर्माण इत्यादि कार्यों का प्रखंड कार्यालय में निरीक्षण तथा समीक्षा किया गया। निरीक्षण के क्रम में बताया गया कि मोहड़ा प्रखंड में 9 पंचायत तथा 11 पंचायत समितियां है।
जिला पदाधिकारी द्वारा मोहड़ा प्रखंड अंतर्गत भ्रमण करते हुए अस्पताल का निरीक्षण मोहड़ा थाना के लिए जेठीयन में भूमि का चयन, तेतर पंचायत में गंगा ड्रिंकिंग वॉटर लिफ्टिंग प्रोजेक्ट का विस्तार से निरीक्षण किया गया।
जिला पदाधिकारी द्वारा आज जेठीयन में मोहडा थाना निर्माण के लिए नवोदय विद्यालय के निकट स्थल चयन करते हुए अंचल अधिकारी, मोहड़ा को निर्देश दिया कि वे 3 दिनों के अंदर भूमि मापी कराकर प्रतिवेदन देना सुनिश्चित करेंगे।
तत्पश्चात जिला पदाधिकारी द्वारा अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र जेठीयन का निरीक्षण किया गया। अस्पताल में चिकित्सक उपस्थित नहीं थे, परंतु एएनएम श्रीमती इंदु कुमारी, डाटा एंट्री ऑपरेटर, सफाई कर्मी उपस्थित थे। एएनएम द्वारा बताया गया कि डॉ पीके सविता, मंगलवार एवं शुक्रवार को इस अस्पताल में आते हैं। जिला पदाधिकारी द्वारा कर्मियों की उपस्थिति पंजी, ओपीडी पंजी का निरीक्षण किया गया। उन्होंने दवा वितरण, मरीजों का इलाज के संबंध में जानकारी प्राप्त किया। बताया गया कि अस्पताल में अभी बिजली कनेक्शन नहीं लगा है, परंतु बिजली कनेक्शन हेतु आवेदन कर दिया गया है।
जिला पदाधिकारी द्वारा तेतर पंचायत में गंगा ड्रिंकिंग वाटर लिफ्ट प्रोजेक्ट की प्रगति का मुआयना किया गया। प्रोजेक्ट मैनेजर श्री सुमन कल्याण द्वारा बताया गया कि यह प्रोजेक्ट समय पर पूरा होगा, दिन-रात काम हो रहा है। जिला पदाधिकारी ने पाइप लाइन का काम का निरीक्षण करते हुए इससे संबंधित प्रगति की जानकारी प्राप्त किया। उन्होंने कार्यकारी एजेंसी तथा प्रोजेक्ट मैनेजर को निदेश दिया कि ग्रामीण कार्य विभाग के कार्यपालक अभियंता से समन्वय स्थापित कर पाइप लाइन का कार्य और तेजी से करावें।
जिलाधिकारी को बताया गया कि प्रोजेक्ट हेतु अधिक मिट्टी की आवश्यकता है। उन्होंने निर्देश दिया कि अंचल अधिकारी, मोहड़ा से सहयोग प्राप्त कर आसपास के स्थल से मिट्टी प्राप्त करें। जिलाधिकारी द्वारा पहाड़ पर चढ़कर पूरे प्रोजेक्ट का जायजा लिया गया।
क्षेत्र निरीक्षण के बाद जिलाधिकारी द्वारा पंचायत जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक कर मोहडा प्रखंड के विभिन्न पंचायतों, वार्डों, गांव की समस्याओं के संबंध में जानकारी प्राप्त किया।

पंचायत प्रतिनिधि की बैठक में मुखिया, सरपंच, पंचायत समिति सदस्य द्वारा अपने क्षेत्र में सबसे अधिक पेयजल की समस्याओं के बारे में बताया गया। साथ ही रास्ता, मोरहर नदी पर पुल की आवश्यकता, पुस्तकालय की आवश्यकता बताई गई।
प्रखंड प्रमुख मोहडा द्वारा वृक्षारोपण कार्य में वन पोषक को रखने और पौधों में नियमित रूप से पानी देने, गबियन टूट गया है, उसे बनवाने, दाखिल खारिज में तेजी लाने, भूमि विवाद का निष्पादन और अधिक तेजी से कराने का अनुरोध किया।
पंचायत जनप्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए जिला पदाधिकारी ने कहा कि कुछ ही दिनों में पंचायत निर्वाचन कार्य प्रारंभ होगा। अतः आप सभी पंचायत जनप्रतिनिधि पूरे मन लगाकर विकास योजना का कार्य करें। उन्होंने सुझाव दिया कि अपने क्षेत्र के अन्य समस्याओं के निदान के लिए लोग लोक शिकायत निवारण अधिकार अधिनियम का उपयोग कर सकतें हैं। इसके लिए आप अपने शिकायतों के निष्पादन हेतु अपने अनुमंडलीय लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी के पास आवेदन दे सकते हैं।
जिला पदाधिकारी ने पंचायत जनप्रतिनिधियों को कहा कि अधिकार के साथ अब आपकी जिम्मेदारी भी है। पदाधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों मिलकर जिले का विकास करें। अब जनप्रतिनिधि को कार्य/ विकास के प्रति सजग होना होगा।
उन्होंने बताया कि पंचायत में काफी फंड है, जिससे आंगनबाड़ी केंद्र, पंचायत सरकार भवन, सामुदायिक भवन का मरम्मती कार्य कराई जा सकती है। उन्होंने सभी पंचायत जनप्रतिनिधियों को निर्देश दिया कि वित्तीय अनियमितता का पूरा ध्यान रखें और सावधानी बरतें। अभिलेख का संधारण सही ढंग से करें, यह काफी महत्वपूर्ण है। उन्होंने सरकार की प्राथमिकता वाले योजनाओं का क्रियान्वयन तेजी से कराने का निर्देश दिया।
उन्होंने लोगों को बताया कि मोहडा प्रखंड में विकास की काफी योजनाएं आने वाले दिन में ली जाएगी। गंगा उदवह योजना का लाभ भी मोहड़ा प्रखंड के लोगों को मिलेगा। नवोदय विद्यालय के कारण शैक्षणिक गतिविधि का भी विकास होगा। उन्होंने कहा कि मोहडा प्रखंड का निरीक्षण का मुख्य उद्देश जो प्रखंड पीछे हैं, उसका तेजी से विकास हो। उन्होंने जनप्रतिनिधियों को आश्वस्त किया कि समस्त पदाधिकारी का सहयोग आपको मिलेगा।
जिला पदाधिकारी द्वारा मोहड़ा प्रखंड के पंचायतों में विकास योजनाओं यथा जन वितरण प्रणाली, नल जल योजना, पक्की नाली गली, धान अधिप्राप्ति, आंगनबाड़ी केंद्र का निर्माण, आईसीडीएस गतिविधि, विद्यालयों का निरीक्षण, अस्पतालों का निरीक्षण/जांच करने वाले पदाधिकारियों के साथ विस्तार से समीक्षा की गई।
इस जांच में जल जीवन हरियाली अभियान, जल स्रोतों के निकट अतिक्रमण, पौधारोपण, सार्वजनिक कुओं/ चापाकल के किनारे सोख्ता का निर्माण, छोटी-छोटी पहाड़ों एवं नालों से निकलने वाले जल स्रोतों के पानी का संधारण हेतु चेक डैम का निर्माण, कृषि से संबंधित टपकन सिंचाई योजना, आरटीपीएस मामले, दाखिल खारिज, धान अधिप्राप्ति, विद्यालयों में छात्रों की उपस्थिति एवं ड्रॉपआउट की समीक्षा, मनरेगा, प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना, इंदिरा आवास योजना, आईसीडीएस अंतर्गत आंगनबाड़ी की स्थिति सहित अन्य योजनाओं का विस्तार से समीक्षा की गई।
बैठक में जिला पदाधिकारी ने स्पष्ट निर्देश दिया कि पेयजल से संबंधित योजनाओं को प्राथमिकता स्तर पर पूरा करें। गर्मी को देखते हुए ऐसा एक भी घर न हो जहां पानी नहीं पहुंचे।
मनरेगा के तहत बताया गया कि 103% योजनाओं को पूर्ण किया गया है तथा 2,28,493 मानव दिवस सृजित किया गया है। लगभग 1500 श्रमिक को रोजगार दिया जा रहा है तथा 77.13% भुगतान किया गया है।
विद्यालयों में 8 से 9वीं वर्ग में 1,241 छात्रों में से मात्र 29 छात्रों का ड्रॉप आउट हुआ है, जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि इस प्रखंड में छात्र शिक्षक का अनुपात में सुधार करें।
आईसीडीएस से संबंधित मामलों की समीक्षा में बताया गया कि 33 आंगनबाड़ी केंद्र सरकारी भवन में है तथा 18 निर्माणाधीन है। 4 पद सेविका तथा सहायिका के रिक्त हैं। बाल विकास परियोजना पदाधिकारी, मोहड़ा को निर्देश दिया गया कि वे मानपुर तथा मोहड़ा में सप्ताह के तीन-तीन दिन कार्य करना सुनिश्चित करेंगे।
धान अधिप्राप्ति के संबंध में बताया गया कि प्रखंड में 850 किसान से 40,510 क्विंटल धान की खरीद की गई है तथा 761 किसानों को भुगतान किया गया है। सीएमआर अब तक 7560 क्विंटल प्राप्त हुआ है।
किसान सम्मान योजना से संबंधित 7,984 आवेदन प्राप्त हुए हैं, जिसमें से 6,876 आवेदन सही हैं तथा 664 आवेदन को रद्द किया गया है।
हर खेत को जल योजना के तहत सर्वेक्षण का कार्य पूर्ण हो गया है, परंतु तकनीकी सत्यापन की रफ्तार धीमी है। जिला कृषि पदाधिकारी द्वारा बताया गया कि लघु सिंचाई विभाग तथा विद्युत के कनीय अभियंता द्वारा तकनीकी सर्वे के काम में कोताही बरत रहे है। दोनों अभियंताओं से स्पष्टीकरण पूछते हुए वेतन स्थगित किया गया। निदेश दिया गया कि तत्परता के साथ तकनीकी का कार्य पूर्ण करें।
समीक्षा बैठक में उप विकास आयुक्त श्री सुमन कुमार, अपर समाहर्ता (लोक शिकायत) श्री नरेश झा, निदेशक डीआरडीए श्री संतोष कुमार, अनुमंडल पदाधिकारी, नीमचक बथानी, जिला पंचायती राज पदाधिकारी, नजारत उप समाहर्त्ता, जिला जनसंपर्क पदाधिकारी सहित जिला स्तरीय पदाधिकारी तथा प्रखंड स्तरीय पदाधिकारी, विशेष कार्य पदाधिकारी, वरीय उप समाहर्तागण, योजनाओं की जांच करने वाले पदाधिकारीगण उपस्थित थे।

Share:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *